Zindagi Zindagi

Just another weblog

318 Posts

2483 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9626 postid : 873388

आ चलें दूर इस जहाँ से हम [ग़ज़ल ]

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है
प्यार में चाह की नज़ाकत है

आ चलें दूर इस जहाँ से हम
प्यार तेरा यही हकीकत है

तुम न आये सजन यहाँ गर अब
हम न बोलें यही शिकायत है
….
आप हमको न देख यूँ साजन
प्यार से यह भरी शरारत है
….
रूठ कर दूर तुम न जाना अब
ज़िंदगी यह तिरी अमानत है

रेखा जोशी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Madan Mohan saxena के द्वारा
April 27, 2015

सुन्दर ग़ज़ल , अच्छी प्रस्तुति कभी इधर भ पधारें


topic of the week



latest from jagran